Google search engine
Monday, January 30, 2023
Google search engine
Google search engine

एएमयू पालीटेक्निक में हरित ऊर्जा पर संगोष्ठी

अलीगढ़ 20 मईः अलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय के यूनिवर्सिटी पॉलिटेक्निक के इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग सेक्शन (ईईएस) और द इंस्टीट्यूशन ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड टेलीकम्युनिकेशन इंजीनियर्स (आईईटीई), अलीगढ़ केंद्र द्वारा 54वें विश्व दूरसंचार और सूचना समाज दिवस (डब्ल्यूटी-आईएसडी) की पूर्व संध्या पर संयुक्त रूप से आयोजित एक संगोष्ठी में संसाधन व्यक्तियों और विशेषज्ञों ने सतत विकास के लिए हरित ऊर्जा की आवश्यकता पर जोर देते हुए ग्लोबल वार्मिंग के खतरों पर प्रकाश डाला।

उद्घाटन समारोह में विश्वविद्यालय पॉलिटेक्निक के शिक्षक, आईईटीई, अलीगढ़ केंद्र के सदस्य और विश्वविद्यालय के अन्य विभागों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया।

श्री तहज़ीब अहमद अब्बासी, एसोसिएट प्रोफेसर, ईईएस और मानद कोषाध्यक्ष, आईईटीई अलीगढ़ केंद्र ने प्रिंसिपल, यूनिवर्सिटी पॉलिटेक्निक की ओर से प्रतिनिधियों का स्वागत किया।

कार्यक्रम की संयोजक श्रीमती समीरा, एसोसिएट प्रोफेसर, ईईएस ने संगोष्ठी का अवलोकन प्रदान किया और संसाधन व्यक्तियों का परिचय दिया। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र की आईपीसीसी रिपोर्ट पर चर्चा की जो ग्लोबल वार्मिंग के कारण ‘मानवता के लिए कोड रेड’ के बारे में चेतावनी देती है। यह चेतावनी ऊर्जा क्षेत्र को पारंपरिक से हरित ऊर्जा में स्थानांतरित करने के लिए प्रेरित करती है। उन्होंने युवा पीढ़ी से सतत विकास के लिए हरित ऊर्जा का दूत बनने का आग्रह किया।

डॉ अब्दुस समद, संगोष्ठी के सह-संयोजक और मानद सचिव, आईईटीई अलीगढ़ केंद्र ने डब्ल्यूटी – आईएस दिवस का अवलोकन प्रस्तुत किया। उन्होंने आईईटीई के अध्यक्ष का संदेश पढ़ कर सुनाया और कहा कि इस वर्ष के दूरसंचार दिवस का विषय ‘वृद्ध व्यक्तियों के लिए डिजिटल प्रौद्योगिकी और स्वस्थ आयु वृद्धि’ संगोष्ठी के विषय से जुड़ा हुआ है।

एएमयू के इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी संकाय के डीन प्रोफेसर मोहम्मद अल्तमश सिद्दीकी ने मुख्य अतिथि के रूप में उद्घाटन भाषण दिया। उन्होंने हरित ऊर्जा और सतत विकास के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि अगर हम पर्यावरणीय आपदाओं से बचना चाहते हैं तो हमें स्थायी भविष्य के लिए हरित ऊर्जा का प्रयोग बढ़ाना होगा।

अपने अध्यक्षीय भाषण में, प्रोफेसर मुजफ्फर अहमद सिद्दीकी, अध्यक्ष, आईईटीई, अलीगढ़ ने आईईटीई की प्रासंगिकता और एएमयू के साथ इसके मजबूत जुड़ाव के बारे में बात की।

श्रीमती कौसर जहान, प्रभारी, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग अनुभाग ने धन्यवाद प्रस्ताव रखा।

इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग के प्रोफेसर मोहम्मद रिहान और डॉ मो. तारिक ने तकनीकी सत्र में विशेष वार्ता प्रस्तुत की।

समापन सत्र में प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र वितरित किए गए।

संगोष्ठी के आयोजन सचिव श्री मोहम्मद तारिक समी और श्री मो. उमर रहमान, सहायक प्रोफेसर, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग अनुभाग ने समापन सत्र का संचालन किया।

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Google search engine

Related Articles

Google search engine

Latest Posts