एएमयू जोलोजी विभाग के सदस्य का यूनेस्को इंसायक्लोपीडिया संग्रह में योगदान

अलीगढ़, 22 नवंबरः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के जूलाजी विभाग के डाक्टर हिफ्जुर रहमान सिद्दीक ने ‘ल्यूपोल ट्राइटरपीन और औषधीय गुणों के लाभकारी स्वास्थ्य प्रभाव’ विषय पर यूनेस्को द्वारा पृथ्वी पर जीवन के वेब के स्वास्थ्य, रखरखाव और भविष्य पर प्रकाशित 20 इंसायक्लोपीडिया के संग्रह ‘लाइफ सपोर्ट सिस्टम्स (ईओएलएसएस)’ के लिये एक अध्याय का योगदान दिया है। जो उक्त इंसायक्लोपीडिया के नवीन अंक में प्रकाशित होगा।डा. सिद्दीक गत एक दशक से भी अधिक समय से जैतून, टमाटर, आम, एलोवेरा, फूलगोभी और कई औषधीय पौधों और सब्जियों में पाए जाने वाले अणु-ल्यूपोल की कैंसर-रोधी और सूजन-रोधी विशेषताओं पर शोध कार्य कर रहे हैं।उन्होंने कहा कि सैकड़ों विषय विशेषज्ञों द्वारा संपादित अत्याधुनिक अभिलेखीय ज्ञान कोष यूनेस्को – ईओएलएसएस में प्रकाशित होने के बाद उनका अध्ययन अंततः कैंसर अनुसंधान का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन जाएगा।डा. सिद्दीक के शोध में ल्यूपोल की रिपोर्टिंग, एण्ड्रोजन आश्रित और स्वतंत्र प्रोस्टेट कैंसर को लक्षित करना शामिल है। उन्हें अमेरिकन एसोसिएशन आफ कैंसर रिसर्च (एएसीआर) द्वारा आरलैंडो में अपनी 102वीं वार्षिक बैठक में अपना शोध प्रस्तुत करने के लिए भी आमंत्रित किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *